स्वामी विवेकानंद जी के विचार - Swami Vivekanada Quotes in Hindi

1.ध्यान का अर्थ है, मन का स्वयं पर वापस जाना। मन सभी विचार-तरंगों को रोक देता है और दुनिया रुक जाती है। आपकी चेतना फैलती है। हर बार जब आप ध्यान करेंगे तो आप अपनी वृद्धि को बनाए रखेंगे | स्वामी विवेकानंद

2.ध्यान अवस्था अस्तित्व की उच्चतम अवस्था है। जब तक इच्छा है, कोई वास्तविक खुशी नहीं आ सकती है। यह केवल वस्तुओं का चिंतनशील, साक्षी जैसा अध्ययन है जो हमारे लिए वास्तविक आनंद और खुशी लाता है | स्वामी विवेकानंद

Swami Vivekananda Quotes image in Hindi

स्वामी विवेकानंद के ध्यान पर विचार- Swami Vivekananda Quotes on Meditation

3.सबसे बड़ी बात ध्यान है। यह आध्यात्मिक जीवन का सबसे नज़दीकी दृष्टिकोण है - मन का ध्यान। यह हमारे दैनिक जीवन में एक पल है कि हम बिल्कुल भी भौतिक नहीं हैं - आत्मा स्वयं की सोच, सभी मामलों से मुक्त - आत्मा का यह अद्भुत स्पर्श |  स्वामी विवेकानंद

4.ध्यान में थोड़ा कठिन काम करना और यह आता है। आप शरीर या कुछ और महसूस नहीं करते हैं। जब आप घंटे के बाद उससे बाहर आते हैं, तो आपको अपने जीवन में अब तक का सबसे सुंदर विश्राम मिला है। एकमात्र तरीका है कि आप कभी भी अपने सिस्टम को आराम दें | स्वामी विवेकानंद

5.जब हम अपनी इच्छा पर मन को लगा सकते हैं या उससे अलग कर सकते हैं, तो हम वास्तव में चरित्रवान होंगे। तब अकेले हमने स्वतंत्रता की दिशा में एक लंबा कदम उठाया होगा; इससे पहले, हम केवल मशीन हैं। स्वामी विवेकानंद

6.आत्मा को महसूस करना आत्मा के रूप में व्यावहारिक धर्म है। बाकी सब कुछ अभी तक अच्छा है क्योंकि यह इस एक भव्य विचार की ओर ले जाता है। स्वामी विवेकानंद

7.उस बोध को त्याग से, ध्यान से, सभी इंद्रियों के त्याग से, गांठों को काटकर, उन जंजीरों से बँध जाना है जो हमें बात-बात पर बांधते हैं | स्वामी विवेकानंद

8.यह आध्यात्मिक जीवन का रहस्य है: यह सोचने के लिए कि मैं नास्तिक हूं और शरीर नहीं है, और यह कि इस पूरे ब्रह्मांड को अपने सभी संबंधों के साथ, अपने सभी अच्छे और अपनी सभी बुराई के साथ, लेकिन चित्रों की एक श्रृंखला के रूप में - दृश्यों एक कैनवस पर — जिसका मैं गवाह हूं स्वामी विवेकानंद

9.यदि हम अपने आप में कुछ ऐसा पा सकते हैं जिस पर किसी भी कारण से कार्य नहीं किया जाता है, तो हम स्वयं को जानते हैं। स्वामी विवेकानंद

10.देखो लोग अपने सबसे सामान्य कार्य करते हैं; ये वास्तव में वे बातें हैं जो आपको एक महान व्यक्ति का वास्तविक चरित्र बताएंगी। स्वामी विवेकानंद

11.मन को प्रफुल्लित लेकिन शांत रहें। इसे कभी भी अधिकता में न चलने दें, क्योंकि प्रत्येक अतिरिक्त प्रतिक्रिया के बाद होगी। स्वामी विवेकानंद

12.अत्यधिक मर्यादा से बचें। उस अवस्था में एक मन कभी शांत नहीं होता; यह चंचल हो जाता है। अत्यधिक उत्साह हमेशा दुःख के बाद होगा। आँसू और हँसी परिजनों के पास है। लोग अक्सर एक अति से दूसरे तक भागते हैं। स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद के युवाओं के विचार - Swami Vivekananda Quotes on Youth

13.एक हीरो बनो। हमेशा कहें, 'मुझे कोई डर नहीं है' | स्वामी विवेकानंद

14.अपने जीवन में जोखिम उठाएं। यदि आप जीतते हैं, तो आप नेतृत्व कर सकते हैं। यदि आप हार जाते हैं, तो आप मार्गदर्शन कर सकते हैं! स्वामी विवेकानंद

15.अपने आप पर विश्वास करें और दुनिया आपके चरणों में होगी। स्वामी विवेकानंद

16.दिन में एक बार खुद से बात करें..सच में आप इस दुनिया में एक उत्कृष्ट व्यक्ति से मिलने से चूक सकते हैं। स्वामी विवेकानंद

17.सच्चा मार्गदर्शन एक अंधेरे जंगल में एक छोटी मशाल की तरह है, यह सब कुछ एक बार नहीं दिखाता है।  लेकिन सुरक्षित होने के लिए अगले चरण के लिए पर्याप्त प्रकाश देता है। स्वामी विवेकानंद

18.कभी कमजोर मत बनो, तुम मजबूत होना चाहिए; आपके भीतर असीम शक्ति है। स्वामी विवेकानंद

19.आप अपने भाग्य के निर्माता हैं। स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद के प्यार पर विचार - Swami Vivekananda Quotes on love

20.उच्चतम के लिए देखें, उच्चतम पर लक्ष्य करें और आप उच्चतम तक पहुंचेंगे। स्वामी विवेकानंद

21.एकाग्रता की शक्ति ज्ञान के खजाने की एकमात्र कुंजी है। स्वामी विवेकानंद

22.चकमक पत्थर में आग की तरह, ज्ञान मन में मौजूद है। सुझाव वह घर्षण है जो इसे सामने लाता है। स्वामी विवेकानंद

23.आपको अंदर से बाहर की तरफ बढ़ना होगा। तुम्हें कोई नहीं सिखा सकता, कोई तुम्हें आध्यात्मिक नहीं बना सकता। कोई दूसरा शिक्षक नहीं है, बल्कि आपकी अपनी आत्मा है। स्वामी विवेकानंद

24.एक बहादुर, फ्रैंक, साफ-सुथरे, साहसी और आकांक्षी युवा ही एकमात्र आधार है जिस पर भविष्य का राष्ट्र का निर्माण किया जा सकता है। स्वामी विवेकानंद

25.जवानी सबसे अच्छा समय है। जिस तरह से आप इस अवधि का उपयोग करते हैं, वह आने वाले वर्षों की प्रकृति को तय करेगा जो आपके आगे झूठ बोलते हैं। स्वामी विवेकानंद

26.महान कार्य के लिए लंबे समय तक महान और लगातार प्रयास की आवश्यकता होती है..किसान को एक हजार ठोकर के माध्यम से स्थापित करना पड़ता है। स्वामी विवेकानंद

विवेकानंद के अनमोल वचन - Swami Vivekananda Thoughts in Hindi

27.उठो, जागो और तब तक नहीं रुके जब तक लक्ष्य पूरा न हो जाए। स्वामी विवेकानंद

28.दुनिया महान व्यायामशाला है जहां हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं। स्वामी विवेकानंद

29.आपका उद्देश्य आपका है, इसलिए इसे दूसरों के लिए न बदलें। स्वामी विवेकानंद

30.सारी शक्ति आपके भीतर है: आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते हैं। स्वामी विवेकानंद

31.जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास नहीं कर सकते। स्वामी विवेकानंद

32.सबसे बड़ा पाप खुद को कमजोर समझना है। स्वामी विवेकानंद

33.शक्ति जीवन है, कमजोरी मृत्यु है। स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद शिक्षा पर विचार - Vivekananda Quotes on Education

34.दुनिया की सारी दौलत एक छोटे से भारतीय गाँव की मदद नहीं कर सकती अगर लोगों को खुद की मदद करने के लिए नहीं सिखाया जाता। हमारा काम मुख्य रूप से शैक्षिक, नैतिक और बौद्धिक दोनों होना चाहिए | स्वामी विवेकानंद

35.शिक्षा अभी तक दुनिया में है, और सभ्यता - सभ्यता अभी तक कहीं भी शुरू नहीं हुई है। स्वामी विवेकानंद

36.शिक्षा बहुत सारे तथ्यों से दिमाग नहीं भर रही है। साधन को पूर्ण करना और अपने स्वयं के मन की पूर्ण निपुणता प्राप्त करना [शिक्षा का आदर्श] है। स्वामी विवेकानंद

37.शिक्षा मनुष्य में पहले से ही पूर्णता का प्रकटीकरण है। स्वामी विवेकानंद

38.शिक्षा के प्रसार, ज्ञान के प्रसार के बिना देश की कोई भी प्रगति कैसे हो सकती है  | स्वामी विवेकानंद

39.यदि शिक्षा सूचना के साथ समान है, तो पुस्तकालय दुनिया के सबसे बड़े संत हैं, और विश्वकोश ऋषि हैं। स्वामी विवेकानंद

40.यदि गरीब लड़का शिक्षा के लिए नहीं आ सकता है, तो शिक्षा उसे अवश्य देनी चाहिए। स्वामी विवेकानंद

41.पूरे जीवन में केवल एक ही उद्देश्य है - शिक्षा। अन्यथा पुरुष और महिला, भूमि और धन का क्या उपयोग है | स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद के भगवान विचार - Swami Vivekananda Quotes on God 

42.एक परिवर्तनशील भगवान कोई भगवान नहीं होगा। स्वामी विवेकानंद

43.एक ईश्वर को जाना जाता है और कोई ईश्वर नहीं है; वह हम में से एक की तरह परिमित हो गया है। वह जाना नहीं जा सकता है वह हमेशा अनजाना है | स्वामी विवेकानंद

44.सभी सड़कें भगवान की ओर ले जाती हैं। स्वामी विवेकानंद

45.सभी शास्त्र प्रचार करते हैं कि हम भगवान से आते हैं और भगवान के पास वापस जाते हैं। स्वामी विवेकानंद

46.यह सब नहीं है, ईश्वर अकेला है! स्वामी विवेकानंद

47.धन्य है वह मनुष्य जो ईश्वर के बाद पागल है। स्वामी विवेकानंद

48.भगवान का अनुसरण करें और आप जो भी चाहते हैं वह आपके पास होगा। स्वामी विवेकानंद

49.ईश्वर ही हमारा लक्ष्य है। परमात्मा तक पहुंचने में हम मर जाते हैं | स्वामी विवेकानंद

50.ईश्वर और आत्मा एकमात्र वास्तविकता हैं, जो इस दुनिया से असीम रूप से अधिक वास्तविक हैं। स्वामी विवेकानंद

51.ईश्वर केवल और केवल मनुष्य के माध्यम से ही जाना जा सकता है। स्वामी विवेकानंद

52.ईश्वर जीवन है; ईश्वर सत्य है ... ईश्वर के अलावा और सब कुछ नहीं है - यहाँ आज है, कल गया। स्वामी विवेकानंद

53.ईश्वर मनुष्य का बहुत स्व है। वह वह है जिसे आप कभी नहीं डर सकते हैं। स्वामी विवेकानंद

54.ईश्वर आत्मा है और उसे आत्मा और सत्य में पूजा जाना चाहिए | स्वामी विवेकानंद

55.वह इस सब का सार है, मेरी आत्मा की आत्मा को बांधो। स्वामी विवेकानंद

56.वह एकता, सभी की एकता, सभी जीवन और सभी अस्तित्व की वास्तविकता है | स्वामी विवेकानंद

57.वह साक्षी है, सभी ज्ञान का शाश्वत साक्षी है। स्वामी विवेकानंद

58.भगवान को पाने के लिए प्रेरित होना या सीखना बिल्कुल भी आवश्यक नहीं है। स्वामी विवेकानंद

Post a Comment

0 Comments